प्रधानमंत्री ने सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग से लाॅकडाउन और कोरोना वायरस पर चर्चा की

प्रधानमंत्री ने राज्यों के मुख्यमंत्रियों और केंद्र शासित प्रदेशों के प्रशासकों के साथ वीसी के जरिये चर्चा की। अधिकतर राज्यों ने प्रधानमंत्री से जारी लॉक डाउन को दो सप्ताह के लिए और बढ़ाने का सुझाव दिया। मुख्यमंत्रियों से बात करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि ‘जान है तो जहान है’, जब मैंने राष्ट्र के नाम सन्देश दिया था, तो प्रारम्भ में बल दिया था कि हर नागरिक की जान बचाने के लिए लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंशिंग का पालन बहुत आवश्यक है, देश के अधिकतर लोगों ने बात को समझा और घरों में रहकर दायित्व निभाया।

पीएम मोदी ने कहा कि और अब भारत के उज्जवल भविष्य के लिए, समृद्ध और स्वस्थ भारत के लिए जान भी जहान भी, दोनों पहलुओं पर ध्यान आवश्यक है, जब देश का प्रत्येक व्यक्ति जान भी और जहान भी, दोनों की चिंता करते हुए अपने दायित्व निभाएगा, सरकार और प्रशासन के दिशा-निर्देशों का पालन करेगा।
मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने बैठक के दौरान जानकारी दी कि पंजाब सरकार ने पहले ही 1 मई तक कर्फ्यू या पूर्ण लॉकडाउन का फैसला कर लिया है और सभी शैक्षणिक संस्थानों को 30 जून तक बंद कर दिया गया है।उन्होंने कहा कि अगले आदेश तक राज्य बोर्ड की परीक्षाएं भी टाल दी गई हैं।
महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा है कि राज्‍य में लॉकडाउन 30 अप्रैल तक जारी रहेगा। महाराष्‍ट्र इस मुश्किल वक्‍त में देश को रास्‍ता दिखाएगा।
स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, कोरोना वायरस संक्रमण के 7,447 मामले सामने आए हैं और इसके कारण 239 लोगों की मौत हो चुकी है। पीएम मोदी ने बुधवार को लोकसभा एवं राज्यसभा में विपक्ष समेत विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं से कहा था कि कोरोना वायरस के कारण लागू देशव्यापी लॉकडाउन एक बार में नहीं हटाया जायेगा।

उन्होंने इस बात पर जोर दिया था कि हर व्यक्ति के जीवन को बचाना उनकी सरकार की प्राथमिकता है। अधिकारिक बयान के अनुसार, प्रधानमंत्री ने कहा था कि कई राज्य, जिला प्रशासन और विशेषज्ञों ने वायरस को फैलने से रोकने के लिये लॉकडाउन को बढ़ाने का सुझाव दिया है। उन्होंने कहा था कि देश में स्थिति ‘सामाजिक आपातकाल जैसी है और कड़े निर्णय लेने की जरूरत है।

Facebooktwitterredditpinterestlinkedinmail

Related posts

Leave a Comment